IAS Success Story: जीरो से शुरुआत कर निकेतन ने यूपीएससी परीक्षा पास कर अफसर बनने का सपना किया पूरा

Success Story Of IAS Topper Niketan Bansilal Kadam: यूपीएससी की परीक्षा पास करने का कई लोगों का सफर काफी कठिन होता है. ऐसे ही एक कहानी महाराष्ट्र के छोटे से गांव से निकले निकेतन बंसीलाल कदम की है, जिन्होंने यूपीएससी में सफलता प्राप्त करने के लिए लंबा संघर्ष किया. उनकी शुरुआती शिक्षा मराठी मीडियम से हुई थी ऐसे में उनकी अंग्रेजी कमजोर थी. जिसके कारण कॉलेज में उनका कई बार मजाक भी बनाया गया. इन सब को दरकिनार करके उन्होंने यूपीएससी में जाने का मन बनाया और तैयारी शुरू कर दी. पहले दो बार में उन्हें असफलता हाथ लगी, लेकिन तीसरी बार में उन्हें सफलता मिल गई. इस तरह उनका यूपीएससी परीक्षा पास करने का सपना साकार हो गया.

बचपन में देखी थी आर्थिक तंगी

निकेतन का जन्म महाराष्ट्र के नासिक जिले के गांव में हुआ था. उनके पिता किसान थे और उनके परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी. उनकी शुरुआती शिक्षा मराठी मीडियम से हुई. इसके बाद उन्होंने डिप्लोमा और उसके बाद बीटेक करने के लिए एक कॉलेज में एडमिशन लिया. इसी दौरान उन्होंने सिविल सेवा में जाने का मन बनाया. हालांकि परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी, इस वजह से उन्होंने बीटेक के बाद एक कंपनी में नौकरी की. इस दौरान उन्होंने अपनी तैयारी जारी रखी.

असफलता से नहीं घबराएं 

Advertisements
Loading...

बीटेक के बाद भले ही उन्होंने कंपनी में नौकरी ज्वॉइन कर ली लेकिन उनका मन आईएएस की तैयारी करने का ही था. इसलिए वे दिल्ली आ गए और यहीं रहकर पढ़ाई करने लगे. पहली और दूसरी बार में उन्हें सफलता नहीं मिली, लेकिन वे निराश नहीं हुए और अपनी कोशिश जारी रखी. तीसरे प्रयास में उन्हें सफलता मिल गई और उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा पास कर ली. खास बात यह रही कि उनकी प्री परीक्षा में तीनों बार 120 नंबर से ज्यादा आए.

Loading...

यहां देखें निकेतन का दिल्ली नॉलेज ट्रैक को दिया गया इंटरव्यू

 

दूसरे कैंडिडेट्स को निकेतन की सलाह

निकेतन बंसीलाल का कहना है कि जब आप यूपीएससी की तैयारी करने आएं तो जीरो से शुरुआत करें. जो कैंडिडेट यह सोचकर आता है कि वह पहले से होशियार हैं उनको ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. वे कहते हैं कि आप प्री और मेंस दोनों परीक्षाओं की तैयारी एक साथ करें. सही रणनीति बनाएं और ईमानदारी से मेहनत पर लग जाएं. वह कहते हैं कि टेस्ट देना अच्छी बात है लेकिन बहुत ज्यादा टेस्ट देने से आप कंफ्यूज हो जाएंगे. ऐसे में अपने लक्ष्य पर फोकस करें और उसे हासिल करने के लिए पूरी ताकत लगा दें.

Advertisements
Loading...

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *